Sumedh

कागज़ों पे लिख कर ज़ाया कर दूँ मैं वो शख़्स नहीं, वो शायर हूँ जिसे दिलों पे लिखने का हुनर आता है।